dairy farming business

डेरी फार्मिंग बिज़नेस का मतलब है दूध उत्पादन के लिए दुधारू पशुओं जैसे गाय , भैस , बकरी आदि को पालना और उनके दूध का और दूध उत्पादों का व्यापार करना। डेरी फार्म बिज़नेस सुरु करना स्वरोज़गार का एक बहुत ही अच्छा और कारगर उपाय है। जिस तेजी से जनसँख्या बढ़ रही है , लोगों का खान पान का तरीका बन रहा है इसमें दूध की मांग बढ़ती जा रही है और इसलिए दूध को आवश्यक वस्तु की श्रेणी मैं है। दूध का उपयोग न सिर्फ पीने मैं होता है अपितु चाय , कॉफ़ी , मिठाई , आइसक्रीम , पनीर , दही , छाछ आदि ढेर सारी रोजमर्रा की चीजों मैं होता है इसलिए दूध की खपत मार्किट मैं बहुत ज्यादा है। भारत दुनिया मैं दूध का सबसे बड़ा उत्पादक है फिर भी दूध की कमी है। इस बिज़नेस मैं बड़ी बड़ी कंपनीओ के अलावा छोटी कंपनी और एकदम छोटे स्तर पर एक-दो गाय पाल कर 10 घरों को दूध देने वाले लोग भी काम कर रहे हैं।

तो दोस्तों आपको समझ आ गया होगा की ये बिज़नेस कितनी मांग वाला है तो आप भी अगर मेहनत, लगन से ये काम करेंगे तो आप भी अच्छी कमाई कर सकते हैं।

डेरी फार्म बिज़नेस के लाभ

  • आप इसे बिलकुल छोटे स्तर पर २ पशुओ से अपने घर पर ही सुरुवात कर सकते हैं अगर आपके पास जगह है।
  • दूध की बहुत ज्यादा मांग है और अगर आप मार्केटिंग कर सके तो आप अपने बिज़नेस को काफी बड़ा भी कर सकते हैं।
  • दूध के साथ साथ आपको खाद भी मिलती है जिसको आप बेच सकते हैं।
  • डेरी फार्म बिज़नेस के लिए आपको सरकारी योजनाओ से लोन और ट्रेनिंग भी मिल सकती जिसके बारे मैं हम इस लेख मैं बताएंगे।
  • आप चाहें तो दूध का खुद की कंपनी या ब्रांड भी मार्किट मैं उतार सकते हैं।

लेकिन ये कारोबार सुनने में जितना सरल लगता है उतना सरल बिल्कुल नहीं है. इस कारोबार को सही तरह से चलाने के लिए बहुत मेहनत करनी पड़ती है और आपको सही जानकारी के साथ साथ अनुभव की भी जरूरत होती है. इसलिए अगर आप इस कारोबार को शुरू करने का विचार कर रहे हैं, तो आप हमारा ये लेख जरूर पढ़े. इस लेख में आज हम आपको बताने वाले है कि इस कारोबार को शुरू करने में किन-किन चीजों का ध्यान रखने की जरूरत पड़ती है.

1 . सबसे पहले ये समझना जरूरी है कि आप किस स्तर का डेरी फार्म खोलना चाहते हैं

products
  • छोटा डेरी फार्म ( Small scale dairy farming ) : इस तरह के फार्म मैं आप लगभग 5 से 10 पशुओ के साथ ये व्यवसाय करते हैं, जिसमे आप अच्छे पशुओ के द्वारा महीने के 40 से 50 हजार रुपए तक का व्यवसाय कर सकते है जिसमे आपको मुनाफे के साथ साथ अपने खर्चे भी निकालने हैं । इसको शुरू करने का खर्चा आपको लगभग 5 लाख तक का आ सकता है।
  • मध्यम डेयरी फार्म : ( Medium scale dairy farming ) इस तरह के फार्म मैं आप लगभग 20 से 30 पशुओ के साथ ये व्यवसाय करते हैं, जिसमे आप अच्छे पशुओ के द्वारा महीने के 2 लाख से 3 लाख रुपए तक का व्यवसाय कर सकते है जिसमे आपको मुनाफे के साथ साथ अपने खर्चे भी निकालने हैं । इसको शुरू करने का खर्चा आपको लगभग 12 लाख तक का आ सकता है।
  • बड़ा डेयरी फार्म ( large scale dairy farming ) इस तरह के फार्म मैं आप लगभग 40 से 60 पशुओ के साथ ये व्यवसाय करते हैं, जिसमे आप अच्छे पशुओ के द्वारा महीने के 4 लाख से 5 लाख रुपए तक का व्यवसाय कर सकते है जिसमे आपको मुनाफे के साथ साथ अपने खर्चे भी निकालने हैं । इसको शुरू करने का खर्चा आपको लगभग 25 लाख तक का आ सकता है। ध्यान मैं रखने की बात ये है कि अगर जगह आपकी अपनी है जिसका आपको कोई किराया नहीं देना है, साथ साथ आपके आस पास ही खरीदार हैं तो आप काफी खर्चा बचा कर ज्यादा मुनाफा कमा सकते हैं।

2 . डेरी फार्म के लिए जगह, स्थान का चयन और बनाने का तरीका

किसी भी प्रकार की डेयरी खोलने से पहले सही स्थान का चयन करना बेहद ही जरूरी होता है. आपके पास इतनी जगह होनी चाहिए जिसमे आप पशुओ को आराम से रहने साथ साथ थोड़ा बहुत घूमने की जगह दे सकें। पानी के साथ साथ बाकि सामान रखने और भंडारण की भी जगह अवश्य रखे। शेड बनाते समय ध्यान रखें की उसकी लम्बाई चौड़ाई सही हो , दो पशुओ के बीच मैं उचित दूरी हो , फर्श और छत सही तरीके से बनी हो। हवा पानी की अच्छी व्यवस्था हो क्योकि पशु जितना आराम से रहेगा उतना अच्छा ही दूध उत्पादन होगा।

3 . डेरी के पशुओ का चयन और खरीद

आपको ये बात ध्यान रखनी चाहिए कि जितना ज्याद आप दूध का उत्पादन करेंगे उतनी ही ज्यादा आपकी आमदनी होगी इसलिए आपको पशु वो खरीदने हैं जो ज्यादा दूध देते हो और जगह का मौसम उनके अनुकूल हों। आप गाय या भैस किसी भी पशु को या फिर दोनों को एक साथ भी डेरी मैं रख सकते हैं। लेकिन ज्यादा अच्छा होगा अगर आप एक ही रखें या तो गाय या फिर भैस। भारत मैं सबसे अच्छी गाय की नस्लें हैं शाहीवाल , गीर ,थरपारकर , राठी , सिंधी लाल ,जर्सी , हॉल्सटीन आदि। भारत मैं सबसे अच्छी भैस की नस्लें हैं मुर्रा , नीली रवि , भदावरी , जाफराबादी, सूरति , मेहसाणा , गोदावरी आदि। भारत सरकार द्वारा डेयरी फार्म के कारोबार को बढ़ावा देने के लिए कई तरह की मदद की जा रही हैं। आप अपने निकटतम सरकारी पशुपालन और डेरी विभाग से भी उत्तम नश्लों के बारे मैं जानकारी ले सकते हैं। https://epashuhaat.gov.in/

cows

4 . पशुओं के चारे, पानी और खाने का प्रबन्ध

अगर आपको अपने पशुओ से अच्छा दूध उत्पादन चाहिए तो आपको उनके लिए भरपूर और अच्छा सुखा चारा और ताजी घास के साथ साथ कई तरह के खनिज (मिनिरल्स) वाली चीजे भी देनी होती हैं. डेरी मैं भरपूर मात्रा मैं पानी भी बहुत जरूरी है जो की पीने के साथ साथ साफ़ सफाई के भी काम मैं इस्तेमाल होता है।

5 . पशुओ की देखभाल और रखरखाव

आपको अपने पशुओ की अच्छी तरह से देखभाल करनी होगी इसके लिए आपको अन्य लोगो की भी जरूरत पड़ेगी चाहे वो आपके अपने घर वाले हो सकते हैं चाहे आप कुछ अनुभवी लोगो को नौकरी पे रखें जो इस काम मैं आपकी मदद करे। काम जैसे की दूध निकालना , चारे दूध आदि का उचित भण्डारण और वितरण। डेरी की साफ़ सफाई के साथ साथ पशुओ की भी अच्छी तरह से सफाई और स्नान करना आदि। पशुओ को होने वाली बीमारियों से बचाव के लिए प्रशिक्षित पशु चिकित्सक से समय समय पे परामर्श और टीकाकरण करना भी बहुत जरूरी है।

ऊपर लिखी बातो को अच्छी तरह से करने के बाद अब आपका काम होता है दूध की बिक्री करना और उससे पैसे कमाना।

व्यापार करने का तरीका- इस व्यापार को करने के दो तरीके हैं. पहले तरीके के तहत आप दूध को किसी कंपनी को बेच सकते हैं. ऐसे कई सारी कंपनियां हमारे देश में हैं, जो कि दूध वालों से रोजाना उनका दूध खरीदती हैं। साथ साथ आप आइसक्रीम बनाने वालो , मिठाई बनाने वालो को भी दूध बेच सकते हैं उनको भी दूध की बहुत जरूरत होती है।

वहीं दूसरे तरीके के तहत आप अपनी कंपनी खोलकर दूध को बाजार में सीधे तौर पर बेच सकते हैं. हालांकि अपनी कंपनी खोलने के लिए आपको थोड़ी ज्यादा मेहनत करनी होगी. लेकिन एक बार आपकी कंपनी चलने लगेगी तो आपको लाभ भी अच्छा होगा. इतना ही नहीं कंपनी शुरू करके आप दूध से बनने वाले अन्य उत्पादों को भी बेच सकते हैं. जैसे दही, पनीर, मक्खन इत्यादि जैसे उत्पाद.

डेरी फार्म बिज़नेस सुरु करने के लिए आप नाबार्ड सब्सिडी योजना से लोन ले सकते हैं।

तो दोस्तों ये थी जानकारी खुद का डेरी फार्म बिज़नेस सुरु कर स्वरोज़गार करने की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *