taxi business kaise karen

दोस्तों टैक्सी क्या है ये तो आपको पता ही है और आपने भी कभी न कभी कहीं जाने के लिए टैक्सी किराये पे जरूर ली होगी। पहले की बात करें तो टैक्सी से जाना मतलब बहुत बड़ी बात होती थी और बहुत कम लोग जब बहुत ज्यादा जरूरी हो तभी टैक्सी बुक करते थे, लेकिन अब टैक्सी से जाना एक आम बात हो गई है क्योकि इस नए युग में टैक्सी मिलना , टैक्सी बुक करना और टैक्सी का किराया सब अब आम आदमी की पहुंच में हो गया है इंटरनेट और संचार माध्यमों के द्वारा। अब आपको ऑनलाइन टैक्सी बुकिंग करने की सुविधा है , टैक्सियाँ भी अब अच्छी होती हैं , बहुत कम समय में उपलब्ध हो जाती है और छोटी से छोटी यात्रा जैसे कि घर से मार्किट जाने तक के लिए उपलब्ध हो जाती हैं। इस कारण अब लोगों का टैक्सी से आने जाने का रुझान बढ़ गया है है और बहुत से लोग तो अपनी कार छोड़ कर टैक्सी से जाना पसंद करते हैं क्योकि फिर उनको काफी झंझटो से छुटकारा मिल जाता है और लगता ऐसे ही है जैसे अपनी गाडी में जा रहे हों और ड्राइवर चला रहा हो।

तो टैक्सी इस्तेमाल करने वालो के बढ़ते रुझान को देख कर टैक्सी बिज़नेस करने का एक बहुत ही अच्छा स्वरोज़गार का कारगर तरीका है। अगर आप भी स्वरोज़गार की तलाश मैं हैं या बिज़नेस करना चाहते हैं तो टैक्सी बिज़नेस एक काफी अच्छा ऑप्शन है। ये बिज़नेस कई तरीके से किया जा सकता है इसलिए आइये आपको इस विषय मैं जानकारी देते हैं और साथ ही आपको कुछ बातें बताते हैं जो आपको मदद करेंगी इस बिज़नेस मैं सफलता के लिए।

एक सफल टैक्सी बिज़नेस करने के टिप्स – Success Tips for Taxi Business

सही जगह का चुनाव करें – Choose the right place for business

दोस्तों टैक्सी बिज़नेस सुरु करने के लिए सही जगह का चुनाव बहुत ही आवश्यक है , आपको ऐसी जगह टैक्सी बिज़नेस करना चाहिए जहाँ टैक्सी की डिमांड हो। दूसरा जहाँ डिमांड होगी वहाँ इस बिज़नेस मैं पहले से ही बहुत सारे लोग लगे होंगे तो आपको ये भी ध्यान रखना होगा कि आप किस रणनीति के तहत उनके बीच अपना बिज़नेस करने मैं सफल होंगे। ज्यादातर बड़े शहरों मैं टैक्सी बिज़नेस खूब चलता है साथ साथ ऐसा शहर जो किसी पर्यटन स्थल के आस पास का हो या खुद पर्यटन स्थल हो वहाँ पर भी टैक्सी बिज़नेस सफल है।

सबसे पहले अपना बजट देखें – keep your budget in mind

क्योंकि इस बिज़नेस मैं आपको टैक्सी खरीदनी पड़ेगी इसलिए आपके पास अच्छा बजट होना चाहिए क्योकि एक नयी छोटी टैक्सी भी करीब 4 लाख तक पड़ती है। सुरु मैं ही ज्यादा गाड़ियों से सुरुवात न करें जैसे जैसे बिज़नेस बढे वैसे वैसे गाड़ियां बढ़ाते जाएं। आप गाडी खरीदने के लिए बैंकों से या किसी फाइनेंस कंपनी से वाहन लोन ले सकते हैं , कुछ सरकारी योजनाएं भी हैं जो स्वरोज़गार को बढ़ावा देने के लिए टैक्सी के लिए लोन देती हैं , आप इसके लिए सरकारी योजना के अंतर्गत दिए जाने वाले लोन के बारे मैं अपने निकटतम सरकारी बैंक से और अधिक जानकारी लें। दूसरों की टैक्सी ले कर बिज़नेस करने मैं ज्यादा फायदा नहीं है।

सही टैक्सी का चुनाव करें – Choose the right taxi model for business

आप जो भी टैक्सी ले कर बिज़नेस करने वाले हैं वो टैक्सियों ऐसी होनी चाहिए जो या तो आपके बिज़नेस के हिसाब से हो या कस्टमर के लिए अच्छी आरामदायक हो और लोग वैसी टैक्सी पसंद करते हों, साथ साथ वो ज्यादा मेंटेनेंस लगने वाली भी नहीं होनी चाहिए क्योकि ज्यादा चलने से ज्यादा मेंटेनेंस होगी तो स्पेयर पार्ट्स और सर्विसिंग सस्ती होनी चाहिए। आप अगर अपने आस पास सड़क पर नज़र दौड़ाएंगे तो आपको आराम से पता चल जाएगा कि कौन सी कंपनी का मॉडल टैक्सी के लिए सबसे ज्यादा सड़क पर दिखता है अपने बजट के हिसाब से वही मॉडल खरीदें।

टैक्सी बिज़नेस का तरीका चुनें – Choose the way to run taxi business

  • खुद की टैक्सी चलना – दोस्तों इस तरीके मैं आप अपनी टैक्सी खरीदते हैं और उसका परमिट ले कर अपनी टैक्सी चलना सुरु करते हैं। इसमें आपको कस्टमर खुद बनाने पड़ते हैं या फिर आप किसी टैक्सी ऑपरेटर , या ओला , उबर जैसी कंपनीओं से जुड़ कर अपनी टैक्सी चलने का काम सुरु कर सकते हैं जो आपको ग्राहक देंगी उसके बदले मैं आपसे कमिशन लेंगी।
  • टैक्सी ऑपरेटर बनना – इस तरीके मैं आप अपनी कंपनी खोल कर उसमे बहुत सारी टैक्सियों जोड़ कर स्वयं एक टैक्सी ऑपरेटर बन सकते हैं। इसमें कुछ आपकी अपनी टैक्सी भी हो सकती हैं या आप किसी टैक्सी वाले को अपने साथ काम करने पर लगा सकते हो।
  • टैक्सी लीज पर देना – बहुत सारी प्राइवेट कंपनियां या सरकारी कंपनियां या संस्थानों को अपने स्टाफ को लाने ले जाने के लिए हर दिन गाड़ियों की जरूरत होती है और वो लम्बे समय के लिए टैक्सियाँ लीज पर लेते हैं। आप ऐसे ही किसी से जुड़ कर भी आसानी से अपना टैक्सी का बिज़नेस चला सकते हैं।

सही लाइसेंस और परमिट प्राप्त करें – Take necessary licence and permit

अगर आप खुद की टैक्सी चला रहें हैं तो फिर सिर्फ आपको अपनी टैक्सी का कमर्शियल रजिस्ट्रेशन करना है, इन्शुरन्स और फिटनेस सर्टिफिकेट लेना है , अपना कमर्शियल ड्राइविंग लाइसेंस लेना है और कहाँ कहाँ आप जा सकते हैं वहाँ टैक्सी चलाने का परमिट लेना है। बेहतर होगा आप आल इंडिया परमिट ले लें। बस ये करने के बाद आप अपनी टैक्सी चला सकते हैं।

लेकिन अगर आप टैक्सी ऑपरेटर का बिज़नेस करना चाहते हैं तो पहले आपको अपनी कंपनी का रजिस्ट्रेशन करना होगा जो कि प्रोप्राइटरी , पार्टनरशिप या प्राइवेट लिमिटेड हो सकता है। उसके बाद आपको टैक्सी खरीद कर उनका पूरा रजिस्ट्रेशन और परमिट लीजिये अपने ड्राइवर रखिये और अपना बिज़नेस सुरु कर दीजिये।

अपने बिज़नेस की मार्केटिंग करें – Do marketing of your taxi business

बिना मार्केटिंग के कोई भी बिज़नेस सफल नहीं होता इसलिए आपको अपने टैक्सी बिज़नेस की भी अच्छी मार्केटिंग करनी पड़ेगी ताकि ग्राहकों को आपकी सर्विस के बारे मैं पता हो और वो आपकी टैक्सी बुक करा सकें।

  • ऑफिस खोलें – वैसे तो आप इस बिज़नेस को बिना ऑफिस खोले घर से भी कर सकते हैं अगर आप खुद अपनी एक टैक्सी चला रहे हैं , लेकिन अगर आप टैक्सी ऑपरेटर बन रहे हैं तो इसका ऑफिस खोलें वो ज्यादा बेहतर रहेगा, बिज़नेस रजिस्ट्रेशन आदि के लिए। अपनी ऑफिस की सजावट अच्छी रखें और अपनी सेवाओं के अच्छे पोस्टर लगवाएं। साथ साथ बाहर अच्छा सा बोर्ड लगाएं जिसमे आपके बिज़नेस के नाम के साथ साथ सेवाएं भी लिखी हो।
  • विज्ञापन दें – अपने लोकल अखबार मैं समय समय पर अपना विज्ञापन दें। हो सके तो किसी अच्छी जगह पर एक होर्डिंग भी लगा के रखें।
  • वेबसाइट बनवाएं – आज बहुत महत्वपूर्ण है कि आपके टैक्सी बिज़नेस की वेबसाइट जरूर हो, जिसमे लोगों को आपकी सेवाओं के बारे मैं जानकारी के अलावा , कौन सी टैक्सी आपके पास हैं और अलग अलग टैक्सी का कितना किराया है वो सारी रेट लिस्ट भी उसमे रखें। अपना फ़ोन नंबर और कांटेक्ट डिटेल्स भी आप अपनी वेबसाइट पर रखें।
  • बिज़नेस लिस्टिंग करें – अलग अलग दूसरी लोकल वेबसाइट पर भी अपने बिज़नेस की लिस्टिंग फ़ोन नंबर के साथ करें। इसके लिए आप डिजिटल मार्केटिंग करने वाली कंपनी से मदद ले सकते हैं।
  • टैक्सी मेन्टेन करके रखें – जो भी आपकी टैक्सी हैं उनकी मेंटेनेंस और साफ़ सफाई का बहुत ख्याल रखें किसी भी कस्टमर के पास गन्दी , बदबूदार इंटीरियर वाली टैक्सी न भेजें, हमेशा साफ़ सुथरी और अच्छी कंडीशन की गाडी भेजें।
  • व्यवहार अच्छा रखें – अपने बिज़नेस मैं ईमानदारी से काम करें , चाहे आप हों चाहे आपके ड्राइवर या स्टाफ अपने कस्टमर से हमेशा अच्छा व्यवहार रखें और अच्छे से बातचीत करें। कस्टमर की प्रॉब्लम समझें और उचित निवारण करें साथ साथ अपने स्टाफ और ड्राइवर का भी ख्याल रखें।

दोस्तों इस बिज़नेस मैं आप जितनी साख या गुडविल बनाते जाएंगे उतना ही आपका बिज़नेस बढ़ता रहेगा क्योकि आपका संतुष्ट कस्टमर बार बार आपकी टैक्सी बुक करेगा और कई लोगों को भी आपका कस्टमर बनवाएगा। इससे होगा ये कि 1-2 गाड़ियों से सुरुवात करके आप धीरे धीरे बहुत बड़ी ट्रेवल एजेंसी खड़ी कर सकते हैं, कई लोगों के ऐसे उदहारण आपको पढ़ने को मिलेंगे, जिन्होंने छोटे से सुरु कर आज काफी बड़ा मक़ाम हासिल किया है।

तो दोस्तों ये थी आपके लिए जानकारी कि किस तरह से टैक्सी बिज़नेस करके आप अच्छी कमाई कर सकते हैं जो स्वरोज़गार का बहुत ही अच्छा उपाय है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.